स्वागत है आपका ।

Tuesday, 5 February 2013

शोक


तुम नही जानते दुख क्या होता है
और क्या होता है शोक
कितना अंतर है दोनो में
तुम नही समझ सकते

कितनी मोटी लकीर से अलग अलग है दोनो
दुखों पर मुस्कुराना आसान हो भी जाए शायद
पर शोक पर मुस्कुराना एक पागलपन ही होगा
या फ़िर होगी कोइ ज्ञान की चरम अवस्था

शोक सालता ही नही
मार डालता है
शब्द बिला जाता है तब

शोक एक उंची लहरों की तरह आता है
और अपने साथ
लेकर चला जाता है सबकुछ
कोई निशान तक भी नही छोडता
तुम नही समझ सकते

सारी कविताए कहानियां संगीत और ढांढस भी
तब पास नही फ़टकते
बचा रह जाता है बस एक मौन
अनंत को निहारती केवल दो फ़टी उदास आंखे

और रह जाती है एक चिर प्रतीक्षा जिसे
वक्त के सिवा कोइ दुसरा नही
समझ सकता
और न
समझा सकता है
यह तुम नही समझ सकते ॥
----------------शिव शम्भु शर्मा ।

No comments:

Post a Comment