स्वागत है आपका ।

Friday, 1 March 2013

पुरस्कार



ये निगोडा पुरस्कार न हो तो
शायद कोइ साहित्यकार भी न हो

बडी मुस्तकबिल है यह चटनी
अगर यह निगोडी न हो
तो शायद कोइ चाटुकार भी न हो
--------------------शिव शम्भु शर्मा ।

No comments:

Post a Comment