स्वागत है आपका ।

Tuesday, 30 April 2013

मजदूर दिवस



*************
मेरे इलाके के दहाडी मजदूरो एक हो जाओं
आज तुम्हारा दिन है
मंच सज चुका है माइक वाला तैयार है

आज हमारा कामरेड आएगा
साथ में
कवि भाषनियां विद्वान समाजसेवी आएगा

आओ आज नारे लगाने है
ताली बजाना है
ईट से ईट बजा देना है
गद्दारो ठेकेदारो मालिको को दहला देना है

आओं
आज की मजदुरी के बदले
बुंदियां खाकर रस चाटकर  ड्राम का पानी पीना है
मगर इन पूंजी- पतियों को हिला देना है

नई सडक बनानी है नेशनल हाईवे का ठेकेदार आएगा
नई मशीने लाएगा पक्की सडक बनाएगा
काम लंबा चलेगा रोज चलेगा

आज जो नही आएगा उसका नाम रजिस्टर में नही चढेगा
और वह काम नही पाएगा
फ़िर उसे डेरी में मवेशियों का गोबर ढोना पडेगा
चारा काटना पडेगा
वह भी आधी मजदूरी में
सोच लो फ़ैसला कर लो
बाद में हमको दोष मत देना

देखो फ़िर से कहता हूं  कान खोल कर सुन लो

आज कामरेड आएगा
लालसलाम आएगा
वातानुकुलित बी एम डब्ल्यु कार से
उसके आते ही
तुम्हे फ़ूल छिडकना है माला पहनाना है

आओ आज सबको दिखा देना है
दुनियां के मजदूर एक है ।
--------------------श्श्श।

No comments:

Post a Comment