स्वागत है आपका ।

Monday, 15 April 2013

बेवकुफ़ चुप रहो


न जाने क्यो मन कसैला है इन दिनों
जब भी कुछ लिखना चाहता हूं

कोई चुपके से आकर कह जाता है कानों में
--बेवकुफ़ चुप रहो
यहां कुछ नही होगा
जो तुम चाहते हो

सिवा
लफ़्फ़ाजियों
बतौलाबाजियों
के
-----------------शिव शम्भु शर्मा ।

No comments:

Post a Comment