स्वागत है आपका ।

Wednesday, 24 September 2014

प्रशंसा !

प्रशंसा !
*******************
प्रदर्शन ! प्रदर्शन और सिर्फ़ प्रदर्शन
इसके सिवा
और कुछ नही ?
और कुछ नही ?

क्यो ?
ऎसा क्यो ??
ऎसा क्यो ??

प्रशंसा ! प्रशंसा ! प्रशंसा
यही चाहिये उसे बस यही और यही
चाहिये उसे सिर्फ़ यही

पर क्यो ?
पर क्यो ?

वो इसलिए कि वह जानवर नही है अब
आदमी है  ! आदमी है !

और आदमी का मतलब समझ लो
सिर्फ़ प्रशंसा !
प्रशंसा ! प्रशंसा ! प्रशंसा !

इसके सिवा और कुछ भी नही !
-----------------श श शर्मा ।

1 comment:

  1. show off का चलन जोरो पर हैं
    बहुत सही ....

    ReplyDelete