स्वागत है आपका ।

Wednesday, 10 December 2014

सन्नाटा



************
एक ने कहा --ईश्वर है
दुजे ने कहा --ईश्वर नही है

एक ने कहा---तू मूर्ख है
दुजे ने कहा-- तू महा मूर्ख है
एक ने कहा --तू मुझे नही जानता है
दुजे न कहा---मैं तुझको तो क्या तेरे बाप तक को जानता हूं
बस शुरू---
गुत्थम--गुत्थी लत्तम--जुत्ती

भीड बढने लगी
तमाशबीन जमने लगे

कमीजें  फ़टी-----
एक के कमीज का फ़टा लाल टुकडा लहराने लगा
पास के ही कीचड मे सना लेटा साँढ खडा हो गया

हुंकार  भरते दौडा साँढ

एक भयंकर शोर के साथ

अभी -अभी जहाँ इतना कुछ था
पलक झपकते ही
अब वहाँ कुछ भी नही था ।
-----------------------श्श्श ।



No comments:

Post a Comment