स्वागत है आपका ।

Wednesday, 16 September 2015

सुरक्षित

महान-महान विचारक ज्ञानी प्रबुद्ध-जन
अपने-अपने राजनैतिक संगठ्नों के साथ
अलग -अलग झण्डों के तले सुरक्षित
उंघा रहे है

पता नही उन्हें ,
आम जन की अलग-अलग जातियों से गिला क्यों है !
और
संप्रदायों से मलाल क्यों है ?
--------------------------------श्श्श।

No comments:

Post a Comment