स्वागत है आपका ।

Friday, 21 December 2012

गधे

 कुछ नही कहते
धोबी की मोटरी लादे चलते
या कुम्हार की मिट्टी लादे मचलते
जब कडाके की ठंड हो
या झुलसाती धूप हो
जब बरसती है लठ्ठ
तब भी नही रेंकते
गधों का रेंकना दरअसल
एक अजूबा है ।
---------श्श ।

No comments:

Post a Comment