स्वागत है आपका ।

Thursday, 29 November 2012

घबराना नही


जब कोई पसंद न करे आपको
अपने भी  साथ छोड जाय आपका
खुद की आंख के आंसू भी बहने से दगा दे जाय
किसी भयंकर विपदा और संकट की घडी मे भी
जब चारो ओर घटा टोप अंधेरा हो
अपना हाथ भी साथ देने से मना कर जाय

तब भी
दुखी होकर घबराना नही मेरे भाई
ये हालात एक आनेवाले वरदान का संकेत है
याद रखना
अंधेरी सूखी नदी के उस पार
कोई इंतजार कर रहा है तुन्हारा
खडा है --केवल तुम्हारे लिये
जिसके पास हैं ---एक नया सवेरा ।

--श्श्श

No comments:

Post a Comment