स्वागत है आपका ।

Tuesday, 9 April 2013

कविता


कविता  अच्छी लिखने का मतलब
यह कतई नही होता
कि कविता वाकई अच्छी है

कविता अच्छी होने का मतलब
भी यह कतई नही होता कि
कवि वाकई अच्छा है

अब मानसर के कमल के फ़ूल
माली चहबच्चों में भी  खिलानें लगे है

बहुत से भिखारी करोडपति भी होते है
बहुत से करोडपति भिखारी भी ,..

सैकडों भूलभूलैयों  के कमरों से बने महल का मालिक
एक अकेला आदमी भी है

कविता भी इससे नही है
अभिन्न ।
---------------------शिव शम्भु शर्मा ।

No comments:

Post a Comment